Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Dear Proposal




तुम्हे पहली बार देखा तो खुद में यु खो सा गया था
समझ में नहीं आया की असर तुम्हरा है या तुम्हारी आँखों का
काश वो समय फिर आ जाये जब तुम्हरी इन
आँखों ने बिना कुछ देखे हमे अपना बनाया था|


मुझे नहीं पता ये इश्क़ है या कुछ और ,,,
मगर उस दिन तुमसे दूर जाते हुए फिर ये दिल रोया था| 


मुझे तुमसे मोहबत्त है आज इजहार कर रहा हु
क्युकी इन साँसों का क्या पता कब सांस छोड़ दे
पर अगर मुझसे ज़्यदा मोहबत तुमसे किसी ने की हो
तो बेसक ये ज़िन्दगी आज मुझसे मुँह मोड़ ले |


तुम कहती हो ना की हमेशा मेरे बारे में सोचते रहते हो
अब कैसे बताऊ तुम्हे जिस पल तुम्हारे बारे में ना सोचू
जिन्दा होने का एहसास मुझे नहीं होता
सास तो बेसक चलती है पर ये धड़कने वाला दिल
मेरे पास नहीं होता |



समझ नहीं आ रहा ये ज़िन्दगी अचानक क्यों उलझ सी गयी है
तुम्हारे प्यार में यु सिमट सी गयी है
प्यार कितना है तुमसे ये बता नहीं सकते
बस इतना जानलो की अब अब जीना मुमकिन नहीं है |


फर्क नहीं पड़ता की हमारा रिश्ता क्या है
और तु मेरी क्या लगती है
फर्क पड़ता है तो इस बात से की
तुमसे बात ना हो तो ज़िन्दगी एक सजा लगती है |



मुझे तेरा साथ ज़िन्दगी भर तक नहीं चाहिए
बल्कि जब तक ज़िन्दगी है तब तक तू चाहिए |







































Post a Comment

0 Comments